Saturday, May 8, 2021

बदले की भावना

एक बार की बात है, एक गांव में एक पंडित रहता था, वो बहुत
ही विद्वान था, दूर दूर से लोग उसके पास अपनी समस्या लेकर आते
और वो सबका उचित समाधान कर देता था लोग उससे बहुत सम्मान
दिया करते थे .
मगर उसकी खुद की स्थिति बहुत ही खराब थी उसकी पत्नी बहुत
ही कर्कशा थी नित्य उसकी जान से रासे किया करती थी हर समय
झगडा करती मगर पंडितजी हँस कर सब सह लेते थे .
एक बार एक दूसरे गाँव का आदमी उन की प्रशंसा सुनकर उनके पास
अपनी समस्या लेकर आया, तब उसने
देखा कि पंडितजी की तो बड़ी ही फजीहत हो रही है उन्ही के
पत्नी उन्हें बुरा भला कह रही है तो वो वापस जाने
लगा कि जो अपना भाग्य नहीं सवार सका वो मेरी क्या मदद
करेगा मगर जो उसको वह लेकर आया था वो बोला जब हम इतनी दूर
आये हैं तो क्यो न आजमा कर देखे कि लोग इनकी इतनी तारीफ़
क्यों करते हैं और वो अंदर चले गये पंडितजी अपने शांत भाव से
ही बैठे थे .
उन्होंने पंडितजी को अभिवादन किया और पास में ही बैठ गये अब
जो अपनी संशय लेकर आया था उसने कहा पंडितजी मैं आपसे मदद
लेने आया था पर मेरे मन में एक संशय है यदि आप मेरे उस संशय
को दूर करें तो मैं अपनी समस्या आप से कहूँ .
पंडितजी ने कहा आप बिना हिचक मुझ से जो चाहे पूछो, मैं
आपकी हर बात का समाधान करने की पूरी कोशिश करूँगा .
तब वह व्यक्ति कहने लगा पंडितजी जब हम यहाँ आये
तो जो देखा उससे लगता है जब आप अपनी समस्या का समाधान
नहीं कर सकते तो हमारी कैसे करेंगे . तब पंडितजी मुस्कुराते हुए
कहने लगे, यदि ये इस जन्म में मुझे नहीं पकडती तो हो सकता है ये
मुझे किसी और जन्म में पकडती .
तब वो कहने लगा ऐसा क्यों पंडितजी आप हमें खुल कर बताये . तब
पंडितजी कहने लगे ये पहले जन्म में एक ऊँटनी थी और अपने दल के
साथ जा रही थी तब इसका पाँव दलदल में चला गया अब ये
जितना कोशिश करती उतना ही अंदर चली जाती .
धीरे-धीरे रात घिरने लगी और इसके साथी भी हर प्रयास में असफल
रहे तब वो इसे छोड़ कर चले गये. ये वहाँ असहाय होकर छटपटाने
लगी उस जन्म में मै एक गिद्ध था और गिद्ध का ये सवभाव
जगजाहिर है कि ये एकमात्र ही ऐसा जीव है
जो जिन्दा आदमी का माँस खाता है .
तब मैं इसका माँस नोंच-२ कर खाने लगा और ये असहाय अवस्था में
मुझे हटा न सकी और मुझसे बदला लेने की भावना मन में लिये लिये
ही इसने प्राण त्याग दिए
उस जन्म में मैंने जैसे इसे नोंच-नोंच कर खाया ये इस जन्म में मुझे
इसी तरह कचोटती है यदि मैं अपना भाग्य संवारने के चक्कर में
इससे विवाह न करता तो ये मुझे किसी और जन्म में पकडती, इसलिए
मैं इसकी इन बातों का बुरा नहीं मानता हूँ.
.....इसलिए हमें इस जन्म में ऐसे कर्म नहीं करने चाहिये कि कोई
हमसे बदले की भावना लिये संसार से जाये और हमें किसी न
किसी जन्म में पकड़े ।

Tuesday, April 27, 2021

सकारात्मक दृष्टीकोण

 एक 6 वर्षका लडका अपनी 4 वर्ष की छोटी बहन के साथ बाजार से जा रहा था।

अचानक से उसे लगा की,उसकी बहन पीछे रह गयी है।
वह रुका, पिछे मुडकर देखा तो जाना कि, उसकी बहन एक खिलौने के दुकान के सामने खडी कोई चीज निहार रही है।
लडका पीछे आता है और बहन से पूछता है, "कुछ चाहिये तुम्हे ?" लडकी एक गुडिया की तरफ उंगली उठाकर दिखाती है।
बच्चा उसका हाथ पकडता है, एक जिम्मेदार बडे भाई की तरह अपनी बहन को वह गुडिया देता है। बहन बहुत खुश हो गयी है।
दुकानदार यह सब देख रहा था, बच्चे का व्यवहार देखकर आश्चर्यचकित भी हुआ ....
अब वह बच्चा बहन के साथ काउंटर पर आया और दुकानदार से पूछा, "सर, कितनी कीमत है इस गुडिया की ?"
दुकानदार एक शांत व्यक्ति था, उसने जीवन के कई उतार देखे होते थें। उन्होने बडे प्यार और अपनत्व से बच्चे पूछा, "बताओ बेटे, आप क्या दे सकते हो?"
बच्चा अपनी जेब से वो सारी सीपें बाहर निकालकर दुकानदार को देता है जो उसने थोडी देर पहले बहन के साथ समुंदर किनारे से चुन चुन कर लायी थी।
दुकानदार वो सब लेकर यू गिनता है जैसे पैसे गिन रहा हो।
सीपें ( शिंपले ) गिनकर वो बच्चे की तरफ देखने लगा तो बच्चा बोला,"सर कुछ कम है क्या?"
दुकानदार :-" नही नही, ये तो इस गुडिया की कीमत से ज्यादा है, ज्यादा मै वापस देता हूं" यह कहकर उसने 4 सीपें रख ली और बाकी की बच्चे को वापिस दे दी।
बच्चा बडी खुशी से वो सीपें जेब मे रखकर बहन को साथ लेकर चला गया।
यह सब उस दुकान का कामगार देख रहा था, उसने आश्चर्य से मालिक से पूछा, " मालिक ! इतनी महंगी गुडिया आपने केवल 4 सीपों के बदले मे दे दी ?"
दुकानदार मुस्कुराते हुये बोला,
"हमारे लिये ये केवल सीप है पर उस 6 साल के बच्चे के लिये अतिशय मूल्यवान है। और अब इस उम्र मे वो नही जानता की पैसे क्या होते है ?
पर जब वह बडा होगा ना...
और जब उसे याद आयेगा कि उसने सीपों के बदले बहन को गुडिया खरीदकर दी थी, तब उसे मेरी याद जरुर आयेगी, वह सोचेगा कि,,,,,,
"यह विश्व अच्छे मनुष्यों से भरा हुआ है।"
यही बात उसके अंदर सकारात्मक दृष्टीकोण बढाने मे मदद करेगी और वो भी अच्छा इंन्सान बनने के लिये प्रेरित होगा।

Sunday, April 25, 2021

धैर्य बनाये

जब महाराज दशरथ ने रामजी के राज्याभिषेक की घोषणा की थी तब वो बिलकुल स्थिर-चित्त थे, कोई अतिरिक्त उल्लास या हर्ष नहीं फिर जब वनवास की आज्ञा हुई तो भी मन में कोई क्लेश या वेदना नहीं हुई और उसी भाव से उस आज्ञा को भी शिरोधार्य कर लिया।
मुझे या आपको जब घर, परिवार और माँ-बाप से दूर महज चंद दिनों के लिए कहीं जाना होता है तो मन बार-बार यही करता है कि जाने से पहले घर वालों के साथ अधिक से अधिक समय गुजार लें, फिर जब तक ट्रेन खुल न जाए तब तक स्टेशन पर ही परिजनों के साथ खड़े रहें, पर राम जी हमारे आपके जैसे नहीं थे। 
वनवास की आज्ञा हुई तो राम जी एक-एक कर सबसे मिले फिर जितनी धन-संपत्ति और वस्त्राभूषण उनके पास थे सब दान करने के लिए महल से बाहर निकल आये। दान करते समय एक अस्सी वर्षीय बूढ़ा लाठी टेकता हुआ उनके पास याचक रूप में आया। 
राम ने पूछा :- क्या चाहिए ? उस वृद्ध ने गौ की मांग की। राम ने सामने मैदान की तरह अंगुली करते हुए उस वृद्ध से कहा:- बाबा आपके हाथ में जो लाठी है, उसे जितनी जोर से फेंक सकते हो फेंको। जहाँ जाकर लाठी गिरेगी, उससे इधर की सारी गौएँ आपकी। उस बूढ़े को समझ नहीं आया कि ये क्या कह रहे हैं राम। वो नकारात्मकता में सर हिलाते हुए कहने लगा :- राम ! मेरी उम्र इतनी नहीं है कि मुझसे ये लाठी फेंकी जायेगी। 
राम ने उसे उत्साहित करते हुए कहा :- देखो बाबा! लाठी जितनी दूर फेंकोगे उतनी गौएँ आपकी। 
उत्साह में भरे बूढ़े ने पूरे ताकत से लाठी घुमाकर फेंकी और वहां से काफी दूर जा गिरी। राम ने लाठी की सीमा के भीतर की सारी गायें उसे देकर ससम्मान विदा कर दिया। 
ये सारी घटना लक्ष्मण भी देख रहे थे। उन्हें कुछ समझ नही आया तो उन्होंने राम से पूछा :- भैया! आप उसे यूं भी तो गौएँ दे सकते थे तो उससे ये श्रम क्यों करवाया?  
तब राम जी ने लक्ष्मण को समझाते हुए कहा कि अगर उस बूढ़े बाबा को दान में गौएँ मिलती तो वो उसे मुफ्त का माल समझकर अकर्मण्य हो जाते पर चूँकि अब उन्होंने इसे अपने श्रम से पाया है तो वो इसका सम्मान करेंगे और कीमत समझेंगे।
अभी कुछ समय पहले जिसका राज्याभिषेक होते-होते रह गया हो। चौदह साल का कठोर वनवास मिला हो, बाप विरह के दुःख में मरणासन्न हो, माँ पछाड़ें खा रही हो, कभी कालीन के नीचे पैर न रखने वाली धर्मपत्नी वल्कल वस्त्र धारण किये नंगे पैर साथ में खड़ी हो; उस इंसान की मनःस्थिति की कल्पना कीजिये पर राम इस अवस्था में भी न सिर्फ बिलकुल स्थिर, सहज और सामान्य थे बल्कि उनकी दृष्टि तब भी इतनी व्यापक थी कि वो इस अवस्था और स्थिति में भी श्रम का महत्व समझा रहे थे। राम की इसी अवस्था को योगेश्वर कृष्ण ने गीता में इस तरह से कहा है :-
  दुःखेष्वनुद्विग्मनाः सुखेषु विगतस्पृहः।
  वीतरागभयक्रोधः स्थितधीर्मुनिरुच्यते ।।  2/56 (गीता)
राम ऐसे अकेले नहीं थी। ऐसी ही साधना वाले राणा प्रताप भी थे जो जंगल में अपनी बच्ची और पत्नी को भूख-प्यास से तड़पता देखकर भी अकबर के सामने झुके नहीं. ऐसे ही शिवाजी भी थे जो शत्रु के घर में कैद होने के बाबजूद निराश और हतोत्साहित हुए बिना बाहर निकलने की योजनायें बना रहे थे। ऐसे ही अनेकों दास्तान हैं हमारे इतिहास में जो हर अपकर्ष काल में अविचलित रहते हुए कर्त्तव्य-निष्ठ रहें।
राम, शिवाजी, सावरकर, तिलक की ऐसी कौन सी साधना थी, ऐसी क्या शिक्षा उन्होंने पाई थी कि सम-विषम किसी भी स्थिति का उनके ऊपर कोई प्रभाव नहीं पड़ता था? स्थिरप्रज्ञ होने की ये कला उन्हें किस यूनिवर्सिटी या कॉलेज में मिली थी? किस शिक्षा ने उन्हें ऐसा बना दिया था कि दूर तक दिख रहे निराशवाद के पार भी उनके लिए आशा और विश्वास की किरणें आलोकित रहती थी जो उन्हें उन विषम, प्रतिकूल और तोड़ देने वाली परिस्थितियों में आत्मबल से लबरेज़ रखती थी ?  
इसके विपरीत हममें ऐसी कौन सी कमियां हैं जो थोड़ी सी प्रतिकूलता में भी विचलित हो जाती है, जो कल या परसों निश्चित ही समाप्त हो जानी वाली आपदा और कष्ट में घबरा जाती है, हतोत्साहित हो जाती है ? 
ये कोरोना काल भी ऐसा ही है जिसमें ये सारी कमियाँ हम सबमें दृष्टिगोचर हो रही हैं। 
संबल, रेगुलर रूटीन और धैर्य बनाये रखिये। याद रखिये स्वयं को दैनंदिन गतिविधियों में जितना संलग्न रखेंगे कोरोना का डर, तनाव उतना ही कम होगा और आपको तनाव रहित देखकर आपके परिवार वालों की हिम्मत भी बढ़ेगी।
हमारे सारे महान पूर्वज इन्हीं आदर्शों को लेकर जीने वाले थे, हमें भी उन्हीं का अनुगमन करना है।

Wednesday, February 17, 2021

खौफनाक दृश्य

एक आदमी घर लौट रहा था.. रास्ते में गाड़ी खराब हो गयी...  रात काफी थी.. एकदम घना अंधेरा था... मोबाईल का नेटवर्क भी नहीं था.... उसकी हवा खराब... ना कोई आगे ना दुर दुर तक कोई पिछे ...अब उसने गाड़ी साइड में लगा दी और लिफ्ट के लिये किसी गाड़ी का इंतेजार करने लगे... काफी देर बाद एक गाड़ी बहुत धीमे धीमे उनकी ओर बढ रही थी...उसकी जान में जान आयी ...उसने गाड़ी रोकने के लिये हाथ दिया ...गाड़ी धीरे धीरे रूक रूक कर उसके पास आयी...उसने गेट खोला और झट से उसमें बैठ गया।लेकिन अंदर बैठकर उसके होश उड़ गये...गला सुखने लगा... आँखे खुली रह गयी ... छाती धड़कने लगी... उसने देखा कि ड्राइविंग सीट पर कोई नहीं है...गाड़ी अपने आप चल रही थी ... 
एक तो रात का अंधेरा ...ऊपर से यह खौफनाक दृश्य ...
उसको समझ नहीं आ रहा था अब क्या करूँ .. बाहर जाऊँ की अंदर रहूँ ... वो कोई फैसला करता की सामने रास्ते पर एक मोड़ आ गया ... तभी दो हाथ साइड से आये और स्टेयरिंग घुमा दिया और गाड़ी मुड़ गयी ...
और फिर हाथ गायब ..अब तो उसकी सिट्टी पिट्टी गुम हो गयी...हनुमान चालीसा शुरू कर दी...अंदर रहने में ही भलाई समझी ...गाड़ी धीरे धीरे ..रूक रूक कर आगे बढती रही ... तभी सामने पेट्रोल पंप नजर आया ...गाड़ी वहाँ जाकर रूक गयी  उसने राहत की साँस ली और तुरंत गाड़ी से उतर गया  पानी पिया  इतने में उसने देखा एक आदमी गाड़ी की ड्राइविंग सीट पर बैठने के लिये जा रहा है वह दौड़ते हुये उसके पास पहूंचा और उससे कहा "इस गाड़ी में मत बैठो ...मैं इसी में बैठकर आया हूँ ... इसमें भूत है"उस आदमी ने उसके गाल पर झन्नाटेदार थप्पड़ मारा और कहा... अबे साले... तु बैठा कब रे इसमें? ...तभी मैं सोचूँ गाड़ी एकदम से भारी कैसी हो गयी ...यह मेरी ही गाड़ी है...पेट्रोल खतम था तो पाँच किलोमीटर से धक्का मारते हुये ला रहा हूँ .

Tuesday, February 9, 2021

हमारे शब्द भी हमारे कर्म

18 दिन के युद्ध ने द्रोपदी की उम्र को 80 वर्ष जैसा कर दिया था शारीरिक रूप से भी और मानसिक रूप से भी। उसकी आंखे मानो किसी खड्डे में धंस गई थी, उनके नीचे के काले घेरों ने उसके रक्ताभ कपोलों को भी अपनी सीमा में ले लिया था। श्याम वर्ण और अधिक काला हो गया था । 

युद्ध से पूर्व प्रतिशोध की ज्वाला ने जलाया था और युद्ध के उपरांत पश्चाताप की आग तपा रही थी । ना कुछ समझने की क्षमता बची थी ना सोचने की । कुरूक्षेत्र मेें चारों तरफ लाशों के ढेर थे । जिनके दाह संस्कार के लिए न लोग उपलब्ध थे न साधन । 

शहर में चारों तरफ विधवाओं का बाहुल्य था पुरुष इक्का-दुक्का ही दिखाई पड़ता था अनाथ बच्चे घूमते दिखाई पड़ते थे और उन सबकी वह महारानी द्रौपदी हस्तिनापुर केे महल मेंं निश्चेष्ट बैठी हुई शूूूून्य को ताक रही थी । तभी कृष्ण कक्ष में प्रवेश करते हैं ! 
महारानी द्रौपदी की जय हो । 

द्रौपदी कृष्ण को देखते ही दौड़कर उनसे लिपट जाती है कृष्ण उसके सर को सहलातेे रहते हैं और रोने देते हैं थोड़ी देर में उसे खुद से अलग करके समीप के पलंग पर बिठा देते हैं । 

*द्रोपती* :- यह क्या हो गया सखा ऐसा तो मैंने नहीं सोचा था ।

कृष्ण नियति बहुत क्रूर होती है पांचाली वह हमारे सोचने के अनुरूप नहीं चलती हमारे कर्मों को परिणामों में बदल देती है तुम प्रतिशोध लेना चाहती थी और तुम सफल हुई द्रौपदी ! तुम्हारा प्रतिशोध पूरा हुआ । सिर्फ दुर्योधन और दुशासन ही नहीं सारे कौरव समाप्त हो गए तुम्हें तो प्रसन्न होना चाहिए ! 
द्रोपती सखा तुम मेरे घावों को सहलाने आए हो या उन पर नमक छिड़कने के लिए ! 
कृष्ण नहीं द्रौपदी मैं तो तुम्हें वास्तविकता से अवगत कराने के लिए आया हूं । हमारे कर्मों के परिणाम को हम दूर तक नहीं देख पाते हैं और जब वे समक्ष होते हैं तो हमारे हाथ मेें कुछ नहीं रहता ।
द्रोपती तो क्या इस युद्ध के लिए पूर्ण रूप से मैं ही उत्तरदाई हूं कृष्ण ? 
कृष्ण नहीं द्रौपदी तुम स्वयं को इतना महत्वपूर्ण मत समझो ।
लेकिन तुम अपने कर्मों में थोड़ी सी भी दूरदर्शिता रखती तो स्वयं इतना कष्ट कभी नहीं पाती।

द्रोपती मैं क्या कर सकती थी कृष्ण ?

कृष्ण  जब तुम्हारा स्वयंबर हुआ तब तुम कर्ण को अपमानित नहीं करती और उसे प्रतियोगिता में भाग लेने का एक अवसर देती तो शायद परिणाम कुछ और होते ! 
इसके बाद जब कुंती ने तुम्हें पांच पतियों की पत्नी बनने का आदेश दिया तब तुम उसे स्वीकार नहीं करती तो भी परिणाम कुछ और होते । 
और 
उसके बाद तुमने अपने महल में दुर्योधन को अपमानित किया वह नहीं करती तो तुम्हारा चीर हरण नहीं होता तब भी शायद परिस्थितियां कुछ और होती ।
हमारे शब्द भी हमारे कर्म होते हैं द्रोपदी और हमें अपने हर शब्द को बोलने से पहले तोलना बहुत जरूरी होता है अन्यथा उसके दुष्परिणाम सिर्फ स्वयं को ही नहीं अपने पूरे परिवेश को दुखी करते रहते हैं 

Saturday, February 6, 2021

परिवार का रक्षण

एक बार गणेशजी ने भगवान शिवजी से कहा,
पिताजी ! आप यह *चिता भस्म लगाकर, मुण्डमाला धारणकर अच्छे नहीं लगते, मेरी माता गौरी अपूर्व सुंदरी और आप उनके साथ इस भयंकर रूप में ! 

पिताजी ! आप एक बार कृपा करके अपने सुंदर रूप में माता के सम्मुख आएं, जिससे हम *आपका असली स्वरूप देख सकें ! 

भगवान शिवजी मुस्कुराये और गणेशजी की बात मान ली !

कुछ समय बाद जब शिवजी स्नान करके लौटे तो उनके शरीर पर भस्म नहीं थी , बिखरी जटाएं सँवरी हुई, *मुण्ड माला उतरी हुई थी !

सभी देवता, यक्ष, गंधर्व, शिवगण उन्हें अपलक देखते रह गये, 
वो  ऐसा रूप था कि मोहिनी अवतार रूप भी फीका पड़ जाये ! 
भगवान शिव ने अपना यह रूप कभी प्रकट नहीं किया था !
 शिवजी का ऐसा अतुलनीय रूप कि करोड़ों कामदेव को भी मलिन कर रहा था ! 

गणेशजी अपने पिता की इस *मनमोहक छवि को देखकर स्तब्ध रह गए और 
मस्तक झुकाकर बोले -
मुझे क्षमा करें पिताजी !
परन्तु अब आप अपने पूर्व स्वरूप को धारण कर लीजिए ! 

भगवान शिव मुस्कुराये और  पूछा - क्यों पुत्र अभी तो तुमने ही मुझे इस रूप में देखने की इच्छा प्रकट की थी,
 अब पुनः पूर्व स्वरूप में आने की बात क्यों ? 
गणेशजी ने मस्तक झुकाये हुए ही कहा - 
क्षमा करें पिताश्री !
मेरी माता से सुंदर कोई और दिखे मैं ऐसा कदापि नहीं चाहता !
और शिवजी हँसे और अपने पुराने स्वरूप में लौट आये !
पौराणिक ऋषि इस प्रसंग का सार स्पष्ट करते हुए कहते हैं.....
आज भी ऐसा ही होता है पिता रुद्र रूप में रहता है क्योंकि उसके ऊपर परिवार की  जिम्मेदारियों अपने परिवार का रक्षण ,उनके मान सम्मान का ख्याल रखना होता है तो थोड़ा कठोर रहता है... 

और माँ सौम्य,प्यार लाड़,स्नेह उनसे बातचीत करके प्यार देकर उस कठोरता का बैलेंस बनाती है ।। इसलिए सुंदर होता है माँ का स्वरूप ।। 

पिता के ऊपर से भी जिम्मेदारियों का बोझ हट जाए तो वो भी बहुत सुंदर दिखता है

Wednesday, January 27, 2021

अद्भुत रिश्तों

एक भंवरे की मित्रता एक गोबरी (गोबर में रहने वाले) कीड़े से थी ! एक दिन कीड़े ने भंवरे से कहा- भाई तुम मेरे सबसे अच्छे मित्र हो, इसलिये मेरे यहाँ भोजन पर आओ!
भंवरा भोजन खाने पहुँचा! बाद में भंवरा सोच में पड़ गया- कि मैंने बुरे का संग किया इसलिये मुझे गोबर खाना पड़ा! अब भंवरे ने कीड़े को अपने यहां आने का निमंत्रन दिया कि तुम कल मेरे यहाँ आओ!*
अगले दिन कीड़ा भंवरे के यहाँ पहुँचा! भंवरे ने कीड़े को उठा कर गुलाब के फूल में बिठा दिया! कीड़े ने परागरस पिया! मित्र का धन्यवाद कर ही रहा था कि पास के मंदिर का पुजारी आया और फूल तोड़ कर ले गया और बिहारी जी के चरणों में चढा दिया! कीड़े को ठाकुर जी के दर्शन हुये! चरणों में बैठने का सौभाग्य भी मिला! संध्या में पुजारी ने सारे फूल इक्कठा किये और गंगा जी में छोड़ दिए! कीड़ा अपने भाग्य पर हैरान था! इतने में भंवरा उड़ता हुआ कीड़े के पास आया, पूछा-मित्र! क्या हाल है? कीड़े ने कहा-भाई! जन्म-जन्म के पापों से मुक्ति हो गयी! ये सब अच्छी संगत का फल है!
कोई भी नही जानता कि हम इस जीवन के सफ़र में एक दूसरे से क्यों मिलते है,
सब के साथ रक्त संबंध नहीं हो सकते परन्तु ईश्वर हमें कुछ लोगों के साथ मिलाकर अद्भुत रिश्तों में बांध देता हैं,हमें उन रिश्तों को हमेशा संजोकर रखना चाहिए।

Wednesday, January 20, 2021

मेरी मा

एक बार अकबर बीरबल हमेशा की तरह टहलने जा रहे थे!
रास्ते में एक तुलसी का पौधा दिखा .. मंत्री बीरबल ने झुक कर प्रणाम किया !
अकबर ने पूछा कौन हे ये ?
बीरबल -- मेरी माता हे !
अकबर ने तुलसी के झाड़ को उखाड़ कर फेक दिया और बोला .. कितनी माता हैं तुम हिन्दू लोगो की ...!
बीरबल ने उसका जबाब देने की एक तरकीब सूझी! .. आगे एक बिच्छुपत्ती (खुजली वाला ) झाड़ मिला .. बीरबल उसे दंडवत प्रणाम कर कहा: जय हो बाप मेरे ! !
अकबरको गुस्सा आया .. दोनों हाथो से झाड़ को उखाड़ने लगा .. इतने में अकबर को भयंकर खुजली होने लगी तो बोला: .. बीरबल ये क्या हो गया !
बीरबल ने कहा आप ने मेरी माँ को मारा इस लिए ये गुस्सा हो गए!
अकबर जहाँ भी हाथ लगता खुजली होने लगती .. बोला: बीरबल जल्दी कोई उपाय बतायो!
बीरबल बोला: उपाय तो है लेकिन वो भी हमारी माँ है .. उससे विनती करी पड़ेगी !
अकबर बोला: जल्दी करो !
आगे गाय खड़ी थी बीरबल ने कहा गाय से विनती करो कि ... हे माता दवाई दो..
गाय ने गोबर कर दिया .. अकबर के शरीर पर उसका लेप करने से फौरन खुजली से राहत मिल गई!
अकबर बोला .. बीरबल अब क्या राजमहल में ऐसे ही जायेंगे?
बीरबलने कहा: .. नहीं बादशाह हमारी एक और माँ है! सामने गंगा बह रही थी .. आप बोलिए हर -हर गंगे .. जय गंगा मईया की .. और कूद जाइए !
नहा कर अपनेआप को तरोताजा महसूस करते हुए अकबर ने बीरबल से कहा: .. कि ये तुलसी माता, गौ माता, गंगा माता तो जगत माता हैं! इनको मानने वालों को ही हिन्दू कहते हैं ..!

Friday, January 15, 2021

खुशहाली


एक किसान था, उसके पास 500 बीघा जमीन थी, घर में किसी प्रकार की कमी नही थी। खुशहाली का माहौल था ।किसान के चार पुत्र थे,सभी सामिल में रहते थे।चारों पुत्रों की शादियां हो चुकी थी व सबके बच्चे भी थे ।भरा पूरा संयुक्त  परिवार था। घर का हिसाब व आर्थिक व्यवस्था का संचालन उसका बङा पुत्र करता था । बङे पुत्र के परिवार संचालन से सब खुश थे, क्योकिं किसी को भी काम नही करना पङता था, सब सदस्यों को हाथखर्च हेतू खूब रूपये मिल जाते थे। बङा पुत्र भी ऐशोआराम की जिंदगी जी रहा था, कभी विदेश घूमने जाता तो कभी होटलों में अय्यासी व मौजमस्ती करता, घर का कोई सदस्य उसका विरोध भी नही करता क्योकिं सबको बिना काम किए ही रुपये पैसे मिल जाते और सब मौज मस्ती करते। रोज घर में मिठाइयां बनती, सबकी पसंद के कपङे,गहने आदि मिल जाते। एक बार  बङे पुत्र को किसी काम से एक दो साल के लिए घर से बाहर जाना पङा एवं घर संचालन की जिम्मेदारी दूसरे नम्बर के पुत्र को दी गयी। दूसरे नम्बर के पुत्र ने परिवार की बागडौर संभाली तो उसके होश उङ गये, क्योकिं लगभग आधी जमीन एक साहूकार के गिरवी  रखी पङी थी, उसने परिवार के किसी सदस्य को कुछ नहीं बताया और अपने काम में लग गया। परिवार के प्रत्येक सदस्य को काम बता दिया गया  स्वयं भी दिनरात मेहनत करता व परिवार के सभी सदस्यों को भी प्रेरित करता। किसी को फ़ालतू रुपये पैसे नही मिलते एवं सबको काम करना पङता था। उसने धीरे धीरे साहूकार का सारा ऋण चुकता कर दिया एवं अपनी सारी जमीन वापस छुङवा ली। अब परिवार के सब सदस्य उससे नाखुश रहने लगे क्योंकि अब सबको मेहनत करनी पङ रही थी एवं फ़ालतू के शौक फैशन हेतु रुपये पैसे नही मिल रहे थे। सबने माँग करना शुरू कर दिया कि वापस परिवार की बागडौर बङे पुत्र को ही दी जाए।