Saturday, January 18, 2020

हर समस्या का हल

बहुत समय पहले, एक निर्जन गाँव में अपने तीन बेटों के साथ एक बूढ़ा व्यक्ति रहता था, जो एक रेगिस्तान के आस-पास स्थित था।  उसके पास 17 ऊंट थे, और वे उसकी आय का मुख्य स्रोत थे।  वह रेगिस्तान में शिपिंग के साधन के रूप में ऊंटों को किराए पर देता था।  एक दिन उनका निधन हो गया।  उन्होंने अपने तीनों बेटों के लिए अपनी संपत्ति छोड़ दी थी।

 अंतिम संस्कार और अन्य दायित्वों के खत्म होने के बाद, तीनों बेटों ने वसीयत पढ़ी।  जबकि उनके पिता ने सभी संपत्ति को तीन समान भागों में विभाजित किया था, उन्होंने 17 ऊंटों को एक अलग तरीके से विभाजित किया था।  उन्हें तीनों में समान रूप से साझा नहीं किया गया क्योंकि 17 एक विषम संख्या और एक अभाज्य संख्या है, जिसे विभाजित नहीं किया जा सकता है।

 बूढ़े व्यक्ति ने कहा था कि बड़ा बेटा 17 ऊंटों में से आधे का मालिक होगा, बीच वाले को 17 ऊंटों का एक तिहाई हिस्सा मिलेगा, और सबसे कम उम्र के ऊंटों को उसका हिस्सा नौवें के रूप में मिलेगा!

 वसीयत में वर्णित 17 ऊंटों को कैसे विभाजित किया जाए, यह सभी वसीयत को पढ़कर दंग रह गए और एक दूसरे से सवाल किया।  17 ऊंटों को विभाजित करना और 17 ऊंटों में से आधे को सबसे बड़ा देना संभव नहीं है।  अन्य दो बेटों के लिए ऊंटों को विभाजित करना भी संभव नहीं है।

 उन्होंने कई दिनों तक वसीयत में वर्णित ऊंटों को विभाजित करने के तरीकों पर विचार किया, लेकिन किसी को भी इसका जवाब नहीं मिला।

 वे अंत में इस मुद्दे को अपने गांव के बुद्धिमान व्यक्ति के पास ले गए।  बुद्धिमान व्यक्ति ने समस्या सुनी और तुरंत एक समाधान पाया।  उसने उन्हें सभी 17 ऊंटों को अपने पास लाने के लिए कहा।

 बेटों ने ऊंटों को बुद्धिमान व्यक्ति के स्थान पर लाया।  बुद्धिमान व्यक्ति ने अपने स्वामित्व में एक ऊँट जोड़ा और ऊँटों की कुल संख्या 18 कर दी।

 अब, उन्होंने पहले बेटे को वसीयत पढ़ने के लिए कहा।  इच्छा के अनुसार, बड़े बेटे को आधा ऊंट मिला, जो अब 18/2 = 9 ऊंटों में गिना जाता है!  सबसे बड़े को उसके हिस्से के रूप में 9 ऊंट मिले।

 शेष ऊँट 9 थे।

 बुद्धिमान व्यक्ति ने दूसरे बेटे को वसीयत पढ़ने के लिए कहा।  उन्हें कुल ऊंटों का 1/3 सौंपा गया था।

 यह 18/3 = 6 ऊंटों के लिए आया था।  दूसरे बेटे को उसके हिस्से के रूप में 6 ऊंट मिले।

 बड़े बेटों द्वारा साझा किए गए ऊंटों की कुल संख्या - 9 + 6 = 15 ऊंट।

 तीसरे बेटे ने ऊंटों की अपनी हिस्सेदारी पढ़ी: ऊंटों की कुल संख्या का 1/9 वां हिस्सा - 18/9 = 2 ऊंट।

 सबसे कम उम्र के व्यक्ति को उसके हिस्से के रूप में 2 ऊंट मिले।

 पूरी तरह से भाइयों द्वारा साझा किए गए 9 + 6 + 2 ऊंट थे, जिन्हें 17 ऊंटों में गिना जाता था।

 अब, बुद्धिमान व्यक्ति द्वारा जोड़ा गया एक ऊंट वापस ले लिया गया था।

 बुद्धिमान व्यक्ति ने अपनी बुद्धिमत्ता से इस समस्या को बड़ी चतुराई से हल किया।

 इंटेलिजेंस एक मुद्दे को हल करने के लिए एक सामान्य आधार खोजने के अलावा कुछ भी नहीं है।  संक्षेप में, हर समस्या का हल है।

Wednesday, January 15, 2020

यही ट्रीटमेंट

जानवरों के डॉक्टर के पास एक Lady आई जिनके साथ एक high breed का कुत्ता था।

कहने लगी....

"मेरे कुत्ते के साथ अजीबो गरीब problem हो गई है।

मेरा कुत्ता बड़ा हट्टी (Disobidient) हो गया है.....

इसे अपने पास बुलाती हूँ तो ये दूर भाग जाता है।

Please कुछ करें.. 
I am very attached to him. I can not tolerate his indifference."

 डॉक्टर ने कुत्ते को ग़ौर से देखा।  पन्द्रह मिनट examin करने के बाद मैं  कहा...

ये कुत्ता एक रात के लिए मेरे पास छोड़ दें। मैं इसका observation कर के इलाज करूँगा।

उसने बडी बेदिली से हामी भर ली।

सब चले गए.....

डॉक्टर ने अपने assistant को आवाज़ दी...और कहा कि इसे भैंसों के साथ बांध दो और हर आधे घंटे पर इसे केवल पानी देना और इसको चमड़े के हन्टर से मारना।

डॉक्टर का assistant जट् आदमी था। 

रात भर कुत्ते के साथ हन्टर ट्रीटमेंट करता रहा।

दूसरे दिन लेडी आ धमकीं।

Sir 
what about my pup?

Doctor said__
Hope your pup has missed you too ......

डॉक्टर का assistant कुत्ते को ले आया़. 

ज्यों ही कुत्ता कमरे मे आया..छलांग लगा के madam की गोद मे आ बैठा, 
लगा दुम हिलाने, 
मुंह चाटने!!

Madam कहने लगीँ: 
सर, आपने इसके साथ क्या किया कि अचानक इसका यह हाल है?

डॉक्टर ने कहा: बड़े से एयर कंडीशनर कमरे, रोज़ अति स्वादिष्ट भोजन खा खाके ये अपने को मालिक समझ बैठा था और अपने मालिक की पहचान भूल बैठा था
 बस इसका यही वहम उतारने के लिए थोड़ा
Psychological plus physical treatment की ज़रूरत थी___ 
वह दे दी,----- 
now he is Okay...

सारांश ~~

*"बस यही ट्रीटमेंट अगर देश के अन्दर :

भारत माता को गाली देने वाले, 
भारत के टुकड़े करने वाले, 
आज़ादी का दुरुपयोग करते हुए आजादी मांगने वाले, ,
सीमा के रक्षक जवानों को अपशब्द कहने वाले 
और दुश्मन देश को जिन्दाबाद कहने वालों के साथ हो ,

तो कश्मीर ही नहीं पूरे देश से आतंकवाद और नक्सलवाद समाप्त हो जायेगा.

Sunday, January 12, 2020

हम झूठा व बासी नही खाते

हम झूठा व बासी नही खाते !

अगली बार ये कहने से पहले सोचियेगा

कुछ दिन पहले एक परिचित दावत के लिये उदयपुर के एक मशहूर रेस्टोरेंट में ले गये।

मैं अक़्सर बाहर खाना खाने से कतराता हूँ, किन्तु सामाजिक दबाव तले जाना पड़ा।

आजकल पनीर खाना रईसी की निशानी है, इसलिए उन्होंने कुछ डिश पनीर की ऑर्डर की।

 प्लेट में रखे पनीर के अनियमित टुकड़े मुझे कुछ अजीब से लगे। ऐसा लगा की उन्हें कांट छांट कर पकाया है।

मैंने वेटर से कुक को बुलाने के लिए कहा, कुक के आने पर मैंने उससे पूछा पनीर के टुकड़े अलग अलग आकार के व अलग रंगों के क्यों हैं तो उसने कहा ये स्पेशल डिश है।"

मैंने कहा की मैँ एक और प्लेट पैक करवा कर ले जाना चाहता हूं लेकिन वो मुझे ये डिश बनाकर दिखाये।

सारा रेस्टोरेंट अकबका गया...
बहुत से लोग थे जो खाना रोककर मुझे  देखने लगे...

स्टाफ तरह तरह के बहाने करने लगा। आखिर वेटर ने पुलिस के डर से बताया की अक्सर लोग प्लेटों में खाना,सब्जी सलाद व रोटी इत्यादी छोड़ देते हैं। रसोई में वो फेंका नही जाता। पनीर व सब्जी के बड़े टुकड़ों को इकट्ठा कर दुबारा से सब्जी की शक्ल में परोस दिया जाता है।
 
प्लेटों में बची सलाद के टुकड़े दुबारा से परोस दिए जाते है । प्लेटों में बचे सूखे  चिकन व मांस के टुकड़ों को काटकर करी के रूप में दुबारा पका दिया जाता है। बासी व सड़ी सब्जियाँ भी करी की शक्ल में छुप जाती हैं...

ये बड़े बड़े होटलों का सच है। अगली बार जब प्लेट में खाना बचे तो उसे इकट्ठा कर एक प्लास्टिक की थैली में साथ ले जाएं व बाहर जाकर उसे या तो किसी जानवर को दे दें या स्वयं से कचरेदान में फेंके

वरना क्या पता आपका झूठा खाना कोई और खाये या आप किसी और कि प्लेट का बचा खाना खाएं।

दूसरा क़िस्सा भगवान कृष्ण की भूमि वृंदावन का है. वृंदावन पहुंच कर,मैँ मुग्ध होकर पावन धरा को निहार रहा था। जयपुर से लंबी यात्रा के बाद हम सभी को कड़ाके की भूख लगी थी सो एक साफ से दिखने वाले  रेस्टोरेंट पर रुक गये । समय नष्ठ ना करने के लिए थाली मंगाई गई।

एक साफ से ट्रे में दाल, सब्जी,चावल, रायता व साथ एक टोकरी में रोटियां आई। 

पहले कुछ कौर में ध्यान नही गया फिर मुझे कुछ ठीक नही लगा। मुझे रोटी में खट्टेपन का अहसास हुआ, फिर सब्जी की ओर ध्यान दिया तो देखा सब्जी में हर टुकड़े का रंग अलग अलग सा था। चावल चखा तो वहां भी माजरा गड़बड़ था। सारा खाना छोड़ दिया। फिर काउंटर पर बिल पूछा यो 650 का बिल थमाया।

मैंने कहा 'भैया! पैसे तो दूँगा लेकिन एक बार आपकी रसोई देखना चाहता हूं" वो अटपटा गया और पूछने लगा "क्यों?"

मैंने कहा "जो पैसे देता है उसे देखने का हक़ है कि खाना साफ बनता है या नहीँ?"

इससे पहले की वो कुछ समख पाता मैंने होटल की रसोई की ओर रुख किया।

आश्चर्य की सीमा ना रही जब देखा रसोई में कोई खाना नहीं पक रहा था। एक टोकरी में कुछ रोटियां पड़ी थी। फ्रिज खोल तो खुले डिब्बों में अलग अलग प्रकार की पकी हुई सब्जियां पड़ी हुई थी।कुछ खाने में तो फफूंद भी लगी हुई थी।

फ्रिज से बदबू का भभका आ रहा था।डांटने पर रसोइये ने बताया की सब्जियां करीब एक हफ्ता पुरानी हैं। परोसने के समय वो उन्हें कुछ तेल डालकर कड़ाई में तेज गर्म कर देता है और धनिया टमाटर से सजा देता है। 

रोटी का आटा 2 दिन में एक बार ही गूंधता है।

कई कई घण्टे जब बिजली चली जाती है तो खाना खराब होने लगता है तो वो उसे तेज़ मसालों के पीछे छुपाकर परोस देते हैं। रोटी का आटा खराब हो तो उसे वो नॉन बनाकर परोस देते हैं।

मैंने रेस्टोरेंट मालिक से कहा कि "आप भी कभी यात्रा करते होंगे, इश्वेर करे जब अगली बार आप भूख से बिलबिला रहे हों तो आपको बिल्कुल वैसा ही खाना मिले जैसा आप परोसते हैं"  उसका चेहरा स्याह हो गया....

आज आपको खतरो, धोखों व ठगी से सिर्फ़ जागरूकता ही बचा सकती है। क्यों कि भगवान को भी दुष्टों ने घेर रखा है।

भारत से सही व गलत का भेद खत्म होता जा रहा है....

हर दुकान व प्रतिष्ठान में एक कोने में भगवान का बड़ा या छोटा मंदिर होता है।  व्यापारी सवेरे आते ही उसमें धूप दीप लगाता है, गल्ले को हाथ जोड़ता है और फिर सामान के साथ आत्मा बेचने का कारोबार शुरू हो जाता है!!!

भगवान से मांगते वक़्त ये नही सोचते की वो स्वयं दुनिया को क्या दे रहे हैं!!***

जागरूक बनिये!!
और कोई चारा नही है
 
मेरे पास भी यह मैसेज कहीं और  से आया था,मुझे लगा कि आगे सेंड करना चाहिये। इसलिये कर दिया। हो सकता है आपको सब बातें सही न लगे, लेकिन जागरूक बनने में कोई बुराई नहीं है। 
 हो सकता है कि आपको इन इस्थितियों का सामना नहीं करना पड़ा हो, पर परिस्थितियां कभी भी एक समान नहीं होती ।