Tuesday, April 27, 2021

सकारात्मक दृष्टीकोण

 एक 6 वर्षका लडका अपनी 4 वर्ष की छोटी बहन के साथ बाजार से जा रहा था।

अचानक से उसे लगा की,उसकी बहन पीछे रह गयी है।
वह रुका, पिछे मुडकर देखा तो जाना कि, उसकी बहन एक खिलौने के दुकान के सामने खडी कोई चीज निहार रही है।
लडका पीछे आता है और बहन से पूछता है, "कुछ चाहिये तुम्हे ?" लडकी एक गुडिया की तरफ उंगली उठाकर दिखाती है।
बच्चा उसका हाथ पकडता है, एक जिम्मेदार बडे भाई की तरह अपनी बहन को वह गुडिया देता है। बहन बहुत खुश हो गयी है।
दुकानदार यह सब देख रहा था, बच्चे का व्यवहार देखकर आश्चर्यचकित भी हुआ ....
अब वह बच्चा बहन के साथ काउंटर पर आया और दुकानदार से पूछा, "सर, कितनी कीमत है इस गुडिया की ?"
दुकानदार एक शांत व्यक्ति था, उसने जीवन के कई उतार देखे होते थें। उन्होने बडे प्यार और अपनत्व से बच्चे पूछा, "बताओ बेटे, आप क्या दे सकते हो?"
बच्चा अपनी जेब से वो सारी सीपें बाहर निकालकर दुकानदार को देता है जो उसने थोडी देर पहले बहन के साथ समुंदर किनारे से चुन चुन कर लायी थी।
दुकानदार वो सब लेकर यू गिनता है जैसे पैसे गिन रहा हो।
सीपें ( शिंपले ) गिनकर वो बच्चे की तरफ देखने लगा तो बच्चा बोला,"सर कुछ कम है क्या?"
दुकानदार :-" नही नही, ये तो इस गुडिया की कीमत से ज्यादा है, ज्यादा मै वापस देता हूं" यह कहकर उसने 4 सीपें रख ली और बाकी की बच्चे को वापिस दे दी।
बच्चा बडी खुशी से वो सीपें जेब मे रखकर बहन को साथ लेकर चला गया।
यह सब उस दुकान का कामगार देख रहा था, उसने आश्चर्य से मालिक से पूछा, " मालिक ! इतनी महंगी गुडिया आपने केवल 4 सीपों के बदले मे दे दी ?"
दुकानदार मुस्कुराते हुये बोला,
"हमारे लिये ये केवल सीप है पर उस 6 साल के बच्चे के लिये अतिशय मूल्यवान है। और अब इस उम्र मे वो नही जानता की पैसे क्या होते है ?
पर जब वह बडा होगा ना...
और जब उसे याद आयेगा कि उसने सीपों के बदले बहन को गुडिया खरीदकर दी थी, तब उसे मेरी याद जरुर आयेगी, वह सोचेगा कि,,,,,,
"यह विश्व अच्छे मनुष्यों से भरा हुआ है।"
यही बात उसके अंदर सकारात्मक दृष्टीकोण बढाने मे मदद करेगी और वो भी अच्छा इंन्सान बनने के लिये प्रेरित होगा।

Sunday, April 25, 2021

धैर्य बनाये

जब महाराज दशरथ ने रामजी के राज्याभिषेक की घोषणा की थी तब वो बिलकुल स्थिर-चित्त थे, कोई अतिरिक्त उल्लास या हर्ष नहीं फिर जब वनवास की आज्ञा हुई तो भी मन में कोई क्लेश या वेदना नहीं हुई और उसी भाव से उस आज्ञा को भी शिरोधार्य कर लिया।
मुझे या आपको जब घर, परिवार और माँ-बाप से दूर महज चंद दिनों के लिए कहीं जाना होता है तो मन बार-बार यही करता है कि जाने से पहले घर वालों के साथ अधिक से अधिक समय गुजार लें, फिर जब तक ट्रेन खुल न जाए तब तक स्टेशन पर ही परिजनों के साथ खड़े रहें, पर राम जी हमारे आपके जैसे नहीं थे। 
वनवास की आज्ञा हुई तो राम जी एक-एक कर सबसे मिले फिर जितनी धन-संपत्ति और वस्त्राभूषण उनके पास थे सब दान करने के लिए महल से बाहर निकल आये। दान करते समय एक अस्सी वर्षीय बूढ़ा लाठी टेकता हुआ उनके पास याचक रूप में आया। 
राम ने पूछा :- क्या चाहिए ? उस वृद्ध ने गौ की मांग की। राम ने सामने मैदान की तरह अंगुली करते हुए उस वृद्ध से कहा:- बाबा आपके हाथ में जो लाठी है, उसे जितनी जोर से फेंक सकते हो फेंको। जहाँ जाकर लाठी गिरेगी, उससे इधर की सारी गौएँ आपकी। उस बूढ़े को समझ नहीं आया कि ये क्या कह रहे हैं राम। वो नकारात्मकता में सर हिलाते हुए कहने लगा :- राम ! मेरी उम्र इतनी नहीं है कि मुझसे ये लाठी फेंकी जायेगी। 
राम ने उसे उत्साहित करते हुए कहा :- देखो बाबा! लाठी जितनी दूर फेंकोगे उतनी गौएँ आपकी। 
उत्साह में भरे बूढ़े ने पूरे ताकत से लाठी घुमाकर फेंकी और वहां से काफी दूर जा गिरी। राम ने लाठी की सीमा के भीतर की सारी गायें उसे देकर ससम्मान विदा कर दिया। 
ये सारी घटना लक्ष्मण भी देख रहे थे। उन्हें कुछ समझ नही आया तो उन्होंने राम से पूछा :- भैया! आप उसे यूं भी तो गौएँ दे सकते थे तो उससे ये श्रम क्यों करवाया?  
तब राम जी ने लक्ष्मण को समझाते हुए कहा कि अगर उस बूढ़े बाबा को दान में गौएँ मिलती तो वो उसे मुफ्त का माल समझकर अकर्मण्य हो जाते पर चूँकि अब उन्होंने इसे अपने श्रम से पाया है तो वो इसका सम्मान करेंगे और कीमत समझेंगे।
अभी कुछ समय पहले जिसका राज्याभिषेक होते-होते रह गया हो। चौदह साल का कठोर वनवास मिला हो, बाप विरह के दुःख में मरणासन्न हो, माँ पछाड़ें खा रही हो, कभी कालीन के नीचे पैर न रखने वाली धर्मपत्नी वल्कल वस्त्र धारण किये नंगे पैर साथ में खड़ी हो; उस इंसान की मनःस्थिति की कल्पना कीजिये पर राम इस अवस्था में भी न सिर्फ बिलकुल स्थिर, सहज और सामान्य थे बल्कि उनकी दृष्टि तब भी इतनी व्यापक थी कि वो इस अवस्था और स्थिति में भी श्रम का महत्व समझा रहे थे। राम की इसी अवस्था को योगेश्वर कृष्ण ने गीता में इस तरह से कहा है :-
  दुःखेष्वनुद्विग्मनाः सुखेषु विगतस्पृहः।
  वीतरागभयक्रोधः स्थितधीर्मुनिरुच्यते ।।  2/56 (गीता)
राम ऐसे अकेले नहीं थी। ऐसी ही साधना वाले राणा प्रताप भी थे जो जंगल में अपनी बच्ची और पत्नी को भूख-प्यास से तड़पता देखकर भी अकबर के सामने झुके नहीं. ऐसे ही शिवाजी भी थे जो शत्रु के घर में कैद होने के बाबजूद निराश और हतोत्साहित हुए बिना बाहर निकलने की योजनायें बना रहे थे। ऐसे ही अनेकों दास्तान हैं हमारे इतिहास में जो हर अपकर्ष काल में अविचलित रहते हुए कर्त्तव्य-निष्ठ रहें।
राम, शिवाजी, सावरकर, तिलक की ऐसी कौन सी साधना थी, ऐसी क्या शिक्षा उन्होंने पाई थी कि सम-विषम किसी भी स्थिति का उनके ऊपर कोई प्रभाव नहीं पड़ता था? स्थिरप्रज्ञ होने की ये कला उन्हें किस यूनिवर्सिटी या कॉलेज में मिली थी? किस शिक्षा ने उन्हें ऐसा बना दिया था कि दूर तक दिख रहे निराशवाद के पार भी उनके लिए आशा और विश्वास की किरणें आलोकित रहती थी जो उन्हें उन विषम, प्रतिकूल और तोड़ देने वाली परिस्थितियों में आत्मबल से लबरेज़ रखती थी ?  
इसके विपरीत हममें ऐसी कौन सी कमियां हैं जो थोड़ी सी प्रतिकूलता में भी विचलित हो जाती है, जो कल या परसों निश्चित ही समाप्त हो जानी वाली आपदा और कष्ट में घबरा जाती है, हतोत्साहित हो जाती है ? 
ये कोरोना काल भी ऐसा ही है जिसमें ये सारी कमियाँ हम सबमें दृष्टिगोचर हो रही हैं। 
संबल, रेगुलर रूटीन और धैर्य बनाये रखिये। याद रखिये स्वयं को दैनंदिन गतिविधियों में जितना संलग्न रखेंगे कोरोना का डर, तनाव उतना ही कम होगा और आपको तनाव रहित देखकर आपके परिवार वालों की हिम्मत भी बढ़ेगी।
हमारे सारे महान पूर्वज इन्हीं आदर्शों को लेकर जीने वाले थे, हमें भी उन्हीं का अनुगमन करना है।

एक बीज की कहानी