Sunday, September 13, 2020

जन्मांध

एक दादा जी के दो पोते थे। एक का नाम “प्राइवेट” और दूसरे का नाम “सरकारी” था।
एक दिन दादा जी के मोबाइल की ब्राइटनेस कम हो गई। दादा जी “सरकारी” के पास गए और बोले, "बेटा मोबाइल में देखो क्या समस्या है, कुछ दिखाई नहीं दे रहा।"
“सरकारी” बोला :- "दादा जी थोड़ा इंतजार कीजिए, मुझे पिता जी  ने काफी काम दिए हैं, थोड़ा सा फुर्सत मिलते ही आपका काम करता हूं।"
दादा जी में इतना धैर्य कहां था कि इंतजार करते।
दादा जी पहुंचे “प्राइवेट” के पास, “प्राइवेट” बड़े फुर्सत में बैठा था। उसने दादा जी को पानी पिलाया, चाय मंगवाई और पूछा, दादा जी बताइए क्या सेवा करूं?
दादा जी उसके व्यवहार से बहुत खुश हुए और उसको अपनी समस्या बताई।
“प्राइवेट” बोला, दादा जी आप निश्चिंत हो के बैठिए, मैं अभी देखता हूं।
उसने मोबाइल की ब्राइटनेस बढ़ा दी और बोला –
“लीजिए दादा जी, मोबाइल का बल्ब फ्यूज हो गया था, मैंने नया लगा दिया है। बल्ब 500 रूपये का है।”
(हालांकि बल्ब फ्यूज नहीं था, तथापि दादा जी उसकी जी-हुजूरी से इतने गदगद थे, कि उन्हें “प्राइवेट” की इस चालबाजी और अपने ठगे जाने का ख्याल भी नहीं आया)
दादा जी ने खुशी-खुशी 500 रूपये उसको बल्ब के दे दिए।
कुछ देर बाद दादा जी से उनका बड़ा बेटा, जिसका नाम 'निजी_आयोग' था, मिलने आया।
दादा जी ने बातों-बातों में “सरकारी” के निकम्मेपन और “प्राइवेट” की कार्य कुशलता की तारीफ करते हुए आज की पूरी घटना बता दी।
'निजी_आयोग' भोले-भाले दादा जी के साथ हुए अन्याय को समझ गया।
'निजीआयोग' ने “प्राइवेट” से संपर्क किया तो उसने 100 रूपये चाचा के हाथ में रख दिए और बोला-
“दादा जी और पिता जी के सामने मेरी थोड़ी जमकर तारीफ कर देना।”
अगले दिन 'निजी_आयोग' ने दादा जी और पिता जी को “प्राइवेट” के गुणों का बखान कर दिया।
पिताजी एकदम धृतराष्ट्र के माफिक जन्मांध थे, गुस्से में आकर बोले - "इस निकम्मे “सरकारी” को घर से बाहर निकालो, आज से पूरे घर की देखभाल “प्राइवेट” करेगा!"
“सरकारी” अवाक है, निःशब्द है, उसके मुंह से बोल नहीं फूट पा रहा है। वह अपनी सामर्थ्य और उपयोगिता दादा जी एवं पिता जी को समझाना चाहता है, परंतु सामने से बोलने की हिम्मत नहीं कर पा रहा है। डर रहा है कि कहीं घर से निकालने के साथ ही उसे भी राष्ट्र विरोधी और राष्ट्र-द्रोही न घोषित कर दिया जाए।
दरवाजे के पीछे से “प्राइवेट” मुस्कुरा रहा है।

Friday, September 11, 2020

दृष्टिकोण के परिवर्तन

ट्रेन के डिब्बे में दो बच्चे  यहाँ-वहाँ दौड़ रहे थे,  कभी आपस में झगड़ जाते, तो  कभी किसी सीट के ऊपर कूदते. पास ही बैठा पिता ... किन्हीं विचारों में खोया था. बीच-बीच में जब बच्चे ... उसकी ओर देखते तो वह एक  स्नेहिल मुस्कान  बच्चों पर डालता और फिर ...बच्चे उसी प्रकार अपनी शरारतों में  व्यस्त हो जाते, और पिता फिर से उन्हें निहारने लगता. ट्रेन के सहयात्री  बच्चों की चंचलता से  परेशान हो गए थे, और ... पिता के रवैये से नाराज़.  चूँकि रात्रि का समय था, अतः सभी आराम करना चाहते थे. बच्चों की भागदौड़ को देखते हुए  एक यात्री से रहा न गया और  लगभग झल्लाते हुए  बच्चों के     पिता से बोल उठा ~ कैसे पिता हैं आप ? बच्चे इतनी शैतानियाँ कर रहे हैं, और आप उन्हें रोकते-टोकते नहीं,  बल्कि मुस्कुराकर प्रोत्साहन दे रहे हैं. क्या आपका दायित्त्व नहीं कि  आप इन्हें समझाएं ?   उस सज्जन की शिकायत से  अन्य यात्रियों ने  राहत की साँस ली, कि  अब यह व्यक्ति लज्जित होगा, और बच्चों को रोकेगा. परन्तु ..  उस पिता ने कुछ क्षण रुक कर  कहा कि ~ कैसे समझाऊँ ?
  बस यही सोच रहा हूँ भाई साहब ! यात्री बोला ~ मैं कुछ समझा नहीं. व्यक्ति बोला ~  मेरी पत्नी अपने मायके गई थी.  वहाँ एक दुर्घटना मे कल उसकी मौत हो गई.  मैं बच्चों को उसके  अंतिम दर्शनों के लिए  ले जा रहा हूँ, और इसी उलझन में हूँ कि कैसे समझाऊँ इन्हें कि ...अब ये अपनी माँ को ... कभी देख नहीं पाएंगे.  उसकी यह बात सुनकर ... जैसे सभी लोगों को साँप सूँघ गया. बोलना तो दूर .. सभी का  सोचने तक का सामर्थ्य जाता रहा. बच्चे यथावत शैतानियाँ कर रहे थे. अभी भी वे कंपार्टमेंट में  दौड़ लगा रहे थे. वह व्यक्ति फिर मौन हो गया. वातावरण में कोई परिवर्तन न हुआ,  पर वे बच्चे .. अब उन यात्रियों को  शैतान, अशिष्ट नहीं लग रहे थे, बल्क ऐसे नन्हें कोमल पुष्प लग रहे थे,  जिन पर सभी अपनी ममता  उड़ेलना चाह रहे थे.  उनका पिता अब उन लोगों को ...   लापरवाह इंसान नहीं, वरन अपने जीवन साथी के  विछोह से दुखी  दो बच्चों का अकेला पिता  और माता भी दिखाई दे रहा था.
कहने को तो यह एक कहानी है  सत्य या असत्य .. पर  एक मूल बात यह अनुभूत हुई कि .. आखिर ... क्षण भर में ही  इतना परिवर्तन कैसे ....  सभी के व्यवहार में आ गया क्योंकि ... उनकी दृष्टि में         परिवर्तन आ चुका था.
 हम सभी इसलिए उलझनों में हैं,  क्योंकि ... हमने अपनी  धारणाओं रूपी उलझनों का संसार  अपने इर्द-गिर्द स्वयं रच लिया है. मैं यह नहीं कहता कि ... किसी को परेशानी या  तकलीफ नहीं है. पर क्या  निराशा या नकारात्मक विचारों से हम उन परिस्थितियों को बदल सकते हैं  
नहीं ना .आवश्यकता है एक आशा, एक उत्साह से भरी  सकारात्मक सोच की,  फिर परिवर्तन तत्क्षण आपके भीतर आपको अनुभव होगा. उस लहर में हताशा की मरुभूमि भी 
 नंदन वन की भाँति सुरभित हो उठेगी.
दोस्तों,
   बदला जाये दृष्टिकोण तो ...
     इंसान बदल सकता है.
        दृष्टिकोण के परिवर्तन से 
          सारा ज़हान बदल सकता है.

Saturday, September 5, 2020

सन ऑफ सोमचन्द

एक गाय ने अपने सींग एक दीवार की बागड़ में कुछ ऐसे फंसाए कि बहुत कोशिश के बाद भी वह उसे  निकाल नही पा रही थी..  भीड़ इकट्ठी हो गई,लोग गाय को निकालने के लिए तरह तरह के सुझाव देने लगे । सबका ध्यान एक ही और था कि गाय को कोई कष्ट ना हो।  
तभी एक व्यक्ति आया और आते ही बोला कि गाय के सींग काट दो। यह सुनकर भीड़ में सन्नाटा छा गया। 
खैर घर के मालिक ने दीवाल को गिराकर गाय को सुरक्षित निकल लिया।  गौ माता के सुरक्षित निकल आने पर सभी प्रसन्न हुए, किन्तु गौ के सींग काटने की बात महाराजा तक पहुंची।  महाराजा ने उस व्यक्ति को तलब किया।  उससे पूछा गया क्या नाम है तेरा ? 
 उस व्यक्ति ने अपना परिचय देते हुए नाम बताया दुलीचन्द।  पिता का नाम - सोमचंद  जो एक लड़ाई में मारा जा चुका था।  महाराजा ने उसकी अधेड़ माँ को बुलवाकर पूछा तो माँ ने भी यही सब दोहराया, किन्तु महाराजा असंतुष्ट थे। 
 उन्होंने जब उस महिला से सख्ती से पूछताछ करवाई तो पता चला कि  उसके अवैध संबंध उसके पड़ोसी समसुद्दीन से हो गए थे। और ये लड़का   दुलीचंद उसी समसुद्दीन की औलाद है, सोमचन्द की नहीं।  महाराजा का संदेह सही साबित हुआ।   
उन्होंने अपने दरबारियों से कहा कि कोई भी शुद्ध सनातनी हिन्दू रक्त अपनी संस्कृति, अपनी मातृ भूमि, और अपनी गौ माता के अरिष्ट,अपमान और उसके  पराभाव को सहन नही कर सकता जैसे ही मैंने सुना कि दुली चंद ने गाय के सींग काटने की बात की, तभी मुझे यह अहसास हो गया था कि हो ना हो इसके रक्त में अशुद्धता आ गई है।  सोमचन्द की औलाद ऐसा नहीं सोच सकती तभी तो वह समसुद्दीन की औलाद निकला
 आज भी  हमारे समाज में सन ऑफ सोमचन्द की आड़ में बहुत से सन ऑफ समसुद्दीन घुस आए हैं।