Thursday, February 27, 2020

दृष्टि बदली तो दृश्य बदल जाते हैं


एक दिन कॉलेज में प्रोफेसर ने विद्यर्थियों से पूछा कि इस संसार में जो कुछ भी है उसे भगवान ने ही बनाया है न?

सभी ने कहा, “हां भगवान ने ही बनाया है।“

प्रोफेसर ने कहा कि इसका मतलब ये हुआ कि बुराई भी भगवान की बनाई चीज़ ही है।

प्रोफेसर ने इतना कहा तो एक विद्यार्थी उठ खड़ा हुआ और उसने कहा कि इतनी जल्दी इस निष्कर्ष पर मत पहुंचिए सर। 

प्रोफेसर ने कहा, क्यों? अभी तो सबने कहा है कि सबकुछ भगवान का ही बनाया हुआ है फिर तुम ऐसा क्यों कह रहे हो?

विद्यार्थी ने कहा कि सर, मैं आपसे छोटे-छोटे दो सवाल पूछूंगा। फिर उसके बाद आपकी बात भी मान लूंगा।

प्रोफेसर ने कहा, "तुम संजय सिन्हा की तरह सवाल पर सवाल करते हो। खैर पूछो।"

विद्यार्थी ने पूछा , "सर क्या दुनिया में ठंड का कोई वजूद है?"

प्रोफेसर ने कहा, बिल्कुल है। सौ फीसदी है। हम ठंड को महसूस करते हैं।

विद्यार्थी ने कहा, "नहीं सर, ठंड कुछ है ही नहीं। ये असल में गर्मी की अनुपस्थिति का अहसास भर है। जहां गर्मी नहीं होती, वहां हम ठंड को महसूस करते हैं।"

प्रोफेसर चुप रहे।

विद्यार्थी ने फिर पूछा, "सर क्या अंधेरे का कोई अस्तित्व है?"

प्रोफेसर ने कहा, "बिल्कुल है। रात को अंधेरा होता है।"

विद्यार्थी ने कहा, "नहीं सर। अंधेरा कुछ होता ही नहीं। ये तो जहां रोशनी नहीं होती वहां अंधेरा होता है।

प्रोफेसर ने कहा, "तुम अपनी बात आगे बढ़ाओ।"

विद्यार्थी ने फिर कहा, "सर आप हमें सिर्फ लाइट एंड हीट (प्रकाश और ताप) ही पढ़ाते हैं। आप हमें कभी डार्क एंड कोल्ड (अंधेरा और ठंड) नहीं पढ़ाते। फिजिक्स में ऐसा कोई विषय ही नहीं। सर, ठीक इसी तरह ईश्वर ने सिर्फ अच्छा-अच्छा बनाया है। अब जहां अच्छा नहीं होता, वहां हमें बुराई नज़र आती है। पर बुराई को ईश्वर ने नहीं बनाया। ये सिर्फ अच्छाई की अनुपस्थिति भर है।"

दरअसल दुनिया में कहीं बुराई है ही नहीं। ये सिर्फ प्यार, विश्वास और ईश्वर में हमारी आस्था की कमी का नाम है।

ज़िंदगी में जब और जहां मौका मिले अच्छाई बांटिए। अच्छाई बढ़ेगी तो बुराई होगी ही नहीं।
गायत्री मंत्र में अच्छाई और संमार्ग पर चलने के लिए प्रेरणा मागी गई है। गायत्री मंत्र का नित्य साधना और जप करने से हमरी दृष्टि में सर्वत्र अच्छाई ही अच्छाई देखने की शक्ति आ जायेगी।

Saturday, February 22, 2020

अपने माता पिता का सर्वदा सम्मान करें

एक पुत्र अपने वृद्ध पिता को रात्रिभोज के लिये एक अच्छे रेस्टोरेंट में लेकर गया । 

खाने के दौरान वृद्ध पिता ने कई बार भोजन अपने कपड़ों पर गिराया । 

रैस्टोरेंट में बैठे खाना खा रहे लोग वृद्ध को घृणा की नजरों से देख रहे थे लेकिन उसका पुत्र शांत था । 

खाने के बाद पुत्र बिना किसी शर्म के वृद्ध को वॉशरूम ले गया । उनके कपड़े साफ़ किये, चेहरा साफ़ किया, बालों में कंघी की, चश्मा पहनाया और फिर बाहर लाया । सभी लोग खामोशी से उन्हें ही देख रहे थे । 

फ़िर उसने बिल का भुगतान किया और वृद्ध के साथ बाहर जाने लगा । 

तभी डिनर कर रहे एक अन्य वृद्ध ने उसे आवाज दी, और पूछा - क्या तुम्हें नहीं लगता कि तुम यहाँ अपने पीछे कुछ छोड़ कर जा रहे हो ? 

उसने जवाब दिया - नहीं सर, मैं कुछ भी छोड़कर नहीं जा रहा ।  

वृद्ध ने कहा - बेटे, तुम यहाँ प्रत्येक पुत्र के लिए एक शिक्षा, सबक और प्रत्येक पिता के लिए उम्मीद छोड़कर जा रहे हो ।  

आमतौर पर हम लोग अपने बुजुर्ग माता-पिता को अपने साथ बाहर ले जाना पसंद नहीं करते,
और कहते हैं - क्या करोगे, आपसे चला तो जाता नहीं, ठीक से खाया भी नहीं जाता, आप तो घर पर ही रहो, वही अच्छा होगा ।

लेकिन क्या आप भूल गये कि जब आप जब छोटे थे, और आपके माता-पिता आपको अपनी गोद में उठाकर ले जाया करते थे । आप जब ठीक से खा नहीं पाते थे तो माँ आपको अपने हाथ से खाना खिलाती थी, और खाना गिर जाने पर डाँट नहीं प्यार जताती थी ।

फिर वही माँ बाप बुढ़ापे में बोझ क्यों लगने लगते हैं ? 

माँ-बाप भगवान का रूप होते हैं । उनकी सेवा कीजिये, और प्यार दीजिये क्योंकि एक दिन आप भी बूढ़े होंगे ।

Monday, February 10, 2020

माँ मुझे थोड़ा आराम करना है

"माँ मुझे थोड़ा आराम करना है.."

स्कूल जाने वाली बेटी ने स्कूल और पढ़ाई से, थक कर माँ से बोली.

"अरे पढ़ाई अच्छे से करले,फिर आराम करना.."

लड़की उठी, पढ़ाई करने बैठ गई और आराम करना रहगया.
"माँ थोड़ी देर आराम कर लेती हूं, आफिस के काम से बहुत थक गई हूं मैं.."

अरे शादी करके शटल हो जाओ एकबार,फिर आराम कर लेना..

लड़की शादी करने तैयार होगई और आराम करना रह गया.
"अरि इतनी जल्दी क्या है, एकाद साल रुक जा जरा.."

"अरे बच्चे समय पर होगये तो कोई टेंशन नही,फिर आराम करलेना ..."

लड़की माँ बन गई और आराम करना रहगया..
"अरे बच्चे की देखभाल तुमको ही करना पड़ेगा,मुझे आफिस जाना है कल..थोडे दिन बस, बच्चा बड़ा होगया की आराम ही करना है.."

वह बच्चे के लिये रात रात भर जगती रही और आराम करना रह गया.
"अब तो बच्चा स्कूल जाने लगा है, जरा निश्चन्त बैठने तो दो मुझे.."

"बच्चे की तरफ ध्यान दे,उसकी पढ़ाई करादे, फिर आराम ही करना है..."

वह बच्चे का प्रोजेक्ट करने बैठ गई, और आराम करना रह गया उसका..
"अब बच्चा भी अपने पैरों पर खड़ा होगया, अब थोड़ा खाली होगई मैं.."

"अब उसकी विवाह का देखना पड़ेगा,ये एक जबाबदारी पूरी होगई कि आराम ही करना है .."

उसने कमरकस सभी कार्यक्रम निपटाये और आराम करना रह ही गया उसका..
"लड़का सांसारिक जीवन मे लग गया,अब में आराम करूंगी.."

"अरे अपनी सुधा गर्भवती है, मायके में डिलवरी करनी है न उसकी.."

लड़की की डिलवरी आगई, और आराम करना रहगया..
"चलो, ये भी जवाबदारी ख़त्म हुई अब आराम."

"सासू माँ मुझे नॉकरी फिर से जॉईन करनी है.. पोते को संभालेगे क्या?"

पोते के पीछे रहते और आराम करना रहगया ..
"चलो पोता बड़ा होगया,अब सभी जवाबदारी समाप्त होगई.. अब मै आराम करूंगी.."

"अरि सुनती हो क्या, गुठने दर्द हो रहे है मेरे, उठा बैठा भी नही जा रहा है..लगता है bp बढ़ गया है, डायबिटीस भी है..डॉकटर ने समय पर परहेज़ का खाना खाने कहा है सुन रही की नही .."

पति की सेवा में बची खुची जिंदगी चली गई..और आराम करना रह ही गया..

Saturday, February 8, 2020

परंपरा

एक कैम्प में नए कमांडर की पोस्टिंग हुई,
इंस्पेक्शन के दौरान उन्होंने देखा कि, कैम्प एरिया के मैदान में दो सिपाही एक बैंच की पहरेदारी कर रहे हैं, 
तो कमांडर ने सिपाहियों से पूछा कि, वे इस बैंच की पहरेदारी क्यों कर रहे हैं ? 

सिपाही बोले : "हमें पता नहीं सर लेकिन आपसे पहले वाले कमांडर साहब ने इस बैंच की पहरेदारी करने को कहा था। शायद ये इस कैम्प की परंपरा है क्योंकि शिफ्ट के हिसाब से चौबीसों घंटे इस बैंच की पहरेदारी की जाती है। "

पिछले कमांडर को वर्तमान कमांडर ने फोन किया और उस विशेष बैंच की पहरेदारी की वजह पूछी। 

पिछले कमांडर ने बताया : " मुझे नहीं पता लेकिन मुझसे पिछले कमांडर उस बैंच की पहरेदारी करवाते थे अतः मैंने भी परंपरा को कायम रखा। "

नए कमांडर बहुत हैरान हुए। उन्होंने पिछले के और पिछले-पिछले 3 कमांडरों से बात की, सबने उपर्युक्त कमांडर जैसा ही जवाब दिया, 
यूँ ही पीछे जाते-जाते नए कमांडर की बात फाईनली एक रिटायर्ड कमांडेंट से हुई जिनकी उम्र 100 साल थी।

नए कमांडर उनसे फोन पर बोले : " आपको डिस्टर्ब करने के लिए क्षमा चाहता हूँ सर। मैं उस कैम्प का नया कमांडर हूँ जिसके आप, 60 साल पहले कमांडर हुआ करते थे। मैंने यहाँ दो सिपाहियों को एक बैंच की पहरेदारी करते देखा है। क्या आप मुझे इस बैंच के बारे में कुछ जानकारी दे सकते हैं ताकि मैं समझ सकूँ कि, इसकी पहरेदारी क्यों आवश्यक है। "

सामने वाला फ़ोन पर आश्चर्यजनक स्वर में बोला : " क्या ?

उस बैंच का ऑइल पेंट अभी तक नहीं सूखा ?!? "

Wednesday, February 5, 2020

भावना और दुख

बड़े गुस्से से मैं घर से चला आया ..
इतना गुस्सा था की गलती से पापा के ही जूते पहन के निकल गया
मैं आज बस घर छोड़ दूंगा, और तभी लौटूंगा जब बहुत बड़ा आदमी बन जाऊंगा ...
जब मोटर साइकिल नहीं दिलवा सकते थे, तो क्यूँ इंजीनियर बनाने के सपने देखतें है .....
आज मैं पापा का पर्स भी उठा लाया था .... जिसे किसी को हाथ तक न लगाने देते थे ...
मुझे पता है इस पर्स मैं जरुर पैसो के हिसाब की डायरी होगी ....
पता तो चले कितना माल छुपाया है .....
माँ से भी ...
इसीलिए हाथ नहीं लगाने देते किसी को..
जैसे ही मैं कच्चे रास्ते से सड़क पर आया, मुझे लगा जूतों में कुछ चुभ रहा है ....
मैंने जूता निकाल कर देखा .....
मेरी एडी से थोडा सा खून रिस आया था ...
जूते की कोई कील निकली हुयी थी, दर्द तो हुआ पर गुस्सा बहुत था ..
और मुझे जाना ही था घर छोड़कर ...
जैसे ही कुछ दूर चला ....
मुझे पांवो में गिला गिला लगा, सड़क पर पानी बिखरा पड़ा था ....
पाँव उठा के देखा तो जूते का तला टुटा था .....
जैसे तेसे लंगडाकर बस स्टॉप पहुंचा, पता चला एक घंटे तक कोई बस नहीं थी .....
मैंने सोचा क्यों न पर्स की तलाशी ली जाये ....
मैंने पर्स खोला, एक पर्ची दिखाई दी, लिखा था..
लैपटॉप के लिए 40 हजार उधार लिए
पर लैपटॉप तो घर मैं मेरे पास है ?
दूसरा एक मुड़ा हुआ पन्ना देखा, उसमे उनके ऑफिस की किसी हॉबी डे का लिखा था
उन्होंने हॉबी लिखी अच्छे जूते पहनना ......
ओह....अच्छे जुते पहनना ???
पर उनके जुते तो ...........!!!!
माँ पिछले चार महीने से हर पहली को कहती है नए जुते ले लो ...
और वे हर बार कहते "अभी तो 6 महीने जूते और चलेंगे .."
मैं अब समझा कितने चलेंगे
......तीसरी पर्ची ..........
पुराना स्कूटर दीजिये एक्सचेंज में नयी मोटर साइकिल ले जाइये ...
पढ़ते ही दिमाग घूम गया.....
पापा का स्कूटर .............
ओह्ह्ह्ह
मैं घर की और भागा........
अब पांवो में वो कील नही चुभ रही थी ....
मैं घर पहुंचा .....
न पापा थे न स्कूटर ..............
ओह्ह्ह नही
मैं समझ गया कहाँ गए ....
मैं दौड़ा .....
और
एजेंसी पर पहुंचा......
पापा वहीँ थे ...............
मैंने उनको गले से लगा लिया, और आंसुओ से उनका कन्धा भिगो दिया ..
.....नहीं...पापा नहीं........ मुझे नहीं चाहिए मोटर साइकिल...
बस आप नए जुते ले लो और मुझे अब बड़ा आदमी बनना है..
वो भी आपके तरीके से ...।।

"माँ" एक ऐसी बैंक है जहाँ आप हर भावना और दुख जमा कर सकते है...
और
"पापा" एक ऐसा क्रेडिट कार्ड है जिनके पास बैलेंस न होते हुए भी हमारे सपने पूरे करने की कोशिश करते है.

Monday, February 3, 2020

दुनिया की रीत

मैं शांति से बैठा अपना इंटरनेट चला रहा था...तभी कुछ मच्छरों ने आकर मेरा खून चूसना शुरू कर दिया तो स्वाभाविक प्रतिक्रिया में मेरा हाथ उठा और चटाक I  हो गया
और एक-दो मच्छर ढेर हो गए... फिर क्या था उन्होंने शोर मचाना शुरू कर दिया कि, मैं असहिष्णु हो गया हूँ..!! 

मैंने पूछा.., "इसमें असहिष्णुता की क्या बात है..?"

वो कहने लगे.., "खून चूसना उनकी आज़ादी है.."

बस "आज़ादी" शब्द सुनते ही कईं बुद्धिजीवी उनके पक्ष में उतर आये और बहस करने लगे.. इसके बाद नारेबाजी शुरू हो गयी..!! 

"तुम कितने मच्छर मारोगे.. हर घर से मच्छर निकलेगा.."

बुद्धिजीवियों ने अख़बार में तपते तर्कों के साथ बड़े-बड़े लेख लिखना शुरू कर दिया।

उनका कहना था कि ..,मच्छर देह पर मौज़ूद तो थे लेकिन खून चूस रहे थे ये कहाँ सिद्ध हुआ है ....
और अगर चूस भी रहे थे तो भी ये गलत तो हो सकता है लेकिन 'देहद्रोह' की श्रेणी में नहीं आता... 

क्योंकि ये "मच्छर" बहुत ही प्रगतिशील रहे है..किसी की भी देह पर बैठ जाना इनका 'सरोकार' रहा है।

मैंने कहा.., "मैं अपना खून नहीं चूसने दूंगा बस।"

तो कहने लगे.., "ये "एक्सट्रीम देहप्रेम" है... तुम कट्टरपंथी हो, डिबेट से भाग रहे हो।"

मैंने कहा..., "तुम्हारा उदारवाद तुम्हें मेरा खून चूसने की इज़ाज़त नहीं दे सकता।"

इस पर उनका तर्क़ था कि..., भले ही यह गलत हो लेकिन फिर भी थोड़ा खून चूसने से तुम्हारी मौत तो नहीं हो जाती, लेकिन तुमने मासूम मच्छरों की ज़िन्दगी छीन ली..
 "फेयर ट्रायल" का मौका भी नहीं दिया। 

इतने में ही कुछ राजनेता भी आ गए और वो उन मच्छरों को अपने बगीचे की 'बहार' का बेटा बताने लगे।

हालात से हैरान और परेशान होकर मैंने कहा कि..., लेकिन ऐसे ही मच्छरों को खून चूसने देने से मलेरिया हो जाता है, और तुरंत न सही बाद में बीमार और कमज़ोर होकर मौत हो जाती है।

इस पर वो कहने लगे कि.., तुम्हारे पास तर्क़ नहीं हैं इसलिए तुम भविष्य की कल्पनाओं के आधार पर अपने 'फासीवादी' फैसले को सही ठहरा रहे हो... 

मैंने कहा, "ये साइंटिफिक तथ्य है कि मच्छरों के काटने से मलेरिया होता है... मुझे इससे पहले अतीत में भी ये झेलना पड़ा है.., साइंटिफिक शब्द उन्हें समझ नहीं आया..!! 

तथ्य के जवाब में वो कहने लगे कि.., मैं इतिहास को मच्छर समाज के प्रति अपनी घृणा का बहाना बना रहा हूँ.. जबकि मुझे वर्तमान में जीना चाहिए।

इतने हंगामें के बाद उन्होंने मेरे ही सिर माहौल बिगाड़ने का आरोप भी मढ़ दिया।

मेरे ख़िलाफ़ मेरे कान में घुसकर सारे मच्छर भिन्नाने लगे कि... " हम लेके रहेंगे आज़ादी..."

मैं बहस और विवाद में पड़कर परेशान हो गया था...उससे ज़्यादा जितना कि, खून चूसे जाने पर हुआ।

आख़िरकार मुझे तुलसी बाबा याद आये.., "सठ सन विनय कुटिल सन प्रीति।"

और फिर मैंने काला हिट उठाया और मंडली से मार्च तक, बगीचे से नाले तक उनके हर सॉफिस्टिकेटेड और सीक्रेट ठिकाने पर दे मारा...

एक बार तेजी से भिन्न-भिन्न हुई और फिर सब शांत....
उसके बाद से न कोई बहस न कोई विवाद, न कोई आज़ादी.. न कोई बर्बादी... न कोई क्रांति.... न कोई सरोकार...!!!!

अब सब कुछ ठीक है बस यही दुनिया की रीत है

एक बीज की कहानी