Friday, October 16, 2015

राजा का प्रश्न

एक राजा का तीन पुत्र थे और वह अपने राज पाठ को अपने सबसे योग्य पुत्र दे कर अजनी सभी जिम्मेदरी मुक्त होना चहाता था इसी कारण अपने तीनों पुत्रों की एक परिक्षा के आधार योग्ता जानना चहाता था जिसके चलते उन्होने सर्व प्रथम अपने सबसे ब़डे पुत्र को अपने राज्य की सम्पूर्ण सीमाऔ का निरिक्षण करने भेजा जब वह सम्पूर्ण निरिक्षण के उपरान्त वापस आया तो उन्होने अपने दूसरे पुत्र को भेजा और जब वो सम्पूर्ण निरिक्षण के बाद वापस आया तो आखिर में अपने तीसरे पुत्र को भेजा और जब वो भी अपने राज्य वापस आया तब राजा ने अपने तीनों पुत्रों को अपने पास बुलाया और बारी बारी तीनो से उनके अनुभवो के बारे बताने को कहा सबसे पहले सबसे बडे पुत्र ने अपने अनुभव बताते हुऐ कहा सम्पर्ण राज्य में सुख शान्ति थी और खेतो में फसलें उगना शुरू हुई थी और बागो में पेडो पर पतझण आया हुआ था
राजा ने दूसरे पुत्र से कहा तुम बताऔ उसने बताया कि राज्य में सुख शान्ति थी खतों में फसले बडी बडी लहरा रही थी और बागों में पेडो पर फूल और फल आना शुरू हो गए थे
और  राजा ने अपने तीसरे पुत्र से कहा अब तुम बताऔ वह बोला राज्य में तो सुख शान्ति थी लेकिन खेतो में फसलें कट गयी थी और बागो में पेडो के फल भी पक कर टूट चुके थे
राजा ने तीनो की बातो को सुना और पूछा कि हम ने आप तीनो को एक ही स्थान पर भेजा था फिर आप तीनो के अनुभव अलग अलग कैसे हो गये कोन सच बोल रहा कोन सच इसका कोन करगा ये सुनते ही उनके दोनो बडे पुत्र जोर जोर से कहने लगे कि में सच बोल रहा हूँ बाकी सब झूट बोल रहे है जैसे ही राजा की नजर अपने तीसरे पुत्र पर गई तो उन्होने उससे पूछा तुम क्यों शान्त खडे हो तब वह बोला कि हम तीनो ही सही बोल रहे है ये सुन्नते ही दोनो बडे भाई शान्त हो गए तब राजा ने उससे कारण पूछा उसने जबाब देते बोला हम तीनो के निरिक्षण के जाते समय ऋतुऐ अलग अलग थी  और हमारी खेती पड पौधे ऋतुऔ के अनुसार लगाए जाते है
राजा अपने पुत्र के जबाब से अत्याधिक प्रसन्न हुआ और बोला तुम जैसा बुद्धिमान व्यक्ति ही मेरे राज्य का राजा बन सकता
Post a Comment